राष्ट्रीय कवयित्री मंच ने अनोखे अंदाज में मनाया नारी समानता दिवस

नई दिल्ली। नारी समानता दिवस  के अवसर पर "राष्ट्रीय कवयित्री मंच" के पटल से एक प्रतियोगिता "नारी गौरव सम्मान 2020" का आयोजन किया गया। इस प्रतियोगिता में भिन्न - भिन्न प्रांतों से भिन्न - भिन्न कवयित्रियों ने बढ़ चढ़ कर हिस्सा लिया। नारी गौरव सम्मान दिवस के अवसर पर कुल 55 प्रतिभागियों ने अपने अपने प्रतिभाओं को कविता, गीत, गजल के रूप में प्रस्तुत किया और इनके प्रतिभाओं को निखारने का एक भी मौका राष्ट्रीय कवयित्री मंच ने नहीं गवाया । 


इस प्रतियोगिता में तीनों पीढ़ी के लोगों ने हिस्सा लिया, क्या बच्चे और क्या बड़े। सबकी प्रतिभाए एक से बढ़ कर एक थी। प्रथम, द्वितीय एंव तृतीय प्रतिभागियों को चुनने में इस बार भी काफी प्रयत्न करने पड़े। जिनकी कवितायों में भावनाएं निहित थी उन्हें यह स्थान प्रदान किया गया। 



प्रथम स्थान प्राप्त की है, माया अग्रवाल जी, विशाखापत्तनम से, द्वितीय स्थान प्राप्त की है, मीनाक्षी भसीन जी,दिल्ली से तथा तृतीय स्थान प्राप्त की है डॉ. टिना रॉव जी, उज्जैन से। इन तीनों विजेताओं को पुरस्कार एवं सम्मान पत्र द्वारा सम्मानित किया गया।साथ ही विजेताओं के पुरस्कार और सम्मान पत्र को डाक सेवा द्वारा उनके पते तक भेजवाए जाएंगे। बाकी प्रतिभागियों को प्रशस्ति पत्र द्वारा सम्मानित किया गया। 


इस प्रतियोगिता के अवसर पर, निर्णायक मंडली में राष्ट्रीय कवयित्री मंच के साथ जुड़ी थी पश्चिम बंगाल से कवयित्री, समाज सेविका, संस्थापिका राष्ट्रीय कवयित्री मंच की पृथा रॉय जायसवाल जी, लखनऊ से लोकप्रिय कवयित्री, लेखिका, लोक गायिका, गजल गायिका एवं निर्णायक मंडली की मुख्य, अतिथि डॉ़ मालविका हरिओम जी , मध्य प्रदेश से वीर रस कवयित्री, मुख्य सलाहकार राष्ट्रीय कवयित्री मंच की आरती अक्षय गोस्वामी जी। 


निर्णायक मंडली ने अपने असीम कृपा के साथ उत्तम रचनाओं को चुनकर सब के समक्ष प्रस्तुत की है। 
इस प्रतियोगिता की परिणाम की घोषणा 28 अगस्त को शाम 7 - 8 लाइव कार्यक्रम द्वारा किया गया तथा इस कार्यक्रम के तहत सबके बीच प्रथम, द्वितीय एवं तृतीय विजेताओं के नाम की उद्घोषणा की गई।


Popular posts